UPDATE FOR WEEK ENDING 5 APRIL 2019

EXTENDED-DAY

The Art Project continues towards our goal - the Art Exhibition!  When? - is to be confirmed and where? - where else, but at school which will be transformed into a walk-through art gallery! We are pretty confident that you will be amazed when you visit. Bring some friends along too and have a picnic in the play area. Introduced at this time - Ted Harrison, a British-Canadian painter noted for his colourful landscapes of the Yukon territory in Canada. His paintings depict the water, the people, the mountains and his favourite – the ‘Northern lights’. Harrison painted with much detail mostly in the abstract, and his style was to use bold colours and definitive outlines.

Oddly, a curator was quoted a saying that he didn’t want Harrison’s work in his gallery because “it was so simple even children understood it.”

Topics from the Extended Day session:

Geography - Land and water forms - a cape and a bay.

Lui and Kei An making their clay models.

Language- Usage of Pronouns through the Story Letter Box

Christopher and Madhav made a story with the story letterbox, using pronouns.

Mathematics - Decimal System: Division

Decimal System - Division with Ridhaan, Alishka, Noor and Ameya. An introduction to division through distributing or sharing the quantities of units, tens, hundreds and thousands.

Sensorial - Colour Tablets Box 2 - Variation

We collected objects from the environment (our classroom) in a group to associate them to colours found in the 2nd Box of Colour Tablets.

EPL -Washing a chair

Sanjana (presenting) and Aaradhya (observing) - at work, washing a piece of cloth. An activity from the Exercises of Practical Area, to help a child develop coordination of movements, independence, concentration and social adaptation, not to mention (pre-vocational) training!

This is our update for the week.  Will be back soon with the next update - Extended-Day Montessori Teachers

BIAN DANG BAN - A PRESENTATION IN MANDARIN

INFANT COMMUNITY

We enjoyed a most pleasant week in our Infant Community. Siena was warmly welcomed into our environment this week.

Spring is in the air (in the temperate zone) and we spoke to the children about the season through pictures. We went out to our garden to see some of our flowers and plants.

Flowers and plants being the focus this week, I presented the activity of cleaning a potted plant. It was rather mesmerizing to see Anatole making it a point to choose this activity, first off, as soon as he arrived in the morning on three consecutive days.

I am sure that you will agree with me that the downpour at the beginning of the week was a pleasant welcome, however, for our little ones, they could have done without the rain for more garden time, and so the song..., ‘Rain Rain Go Away’ became their favourite song :-)

Group time also had us learning the following: the colours of the rainbow through a song, 'I can sing a rainbow', "The Seasons of the Year' - (an upbeat song- here it is if you would like to listen to it).

A Mandarin song - ‘Spring is here”

Language exercise through picture cards: the name ‘Mung Bean’ and the various food made from this bean - green bean soup, green bean cake and, of course, the nutritious green bean sprouts.

Presentations that were done in class - Washing a dish and transferring objects using tongs.   Activities in life skills and that which would help develop focus and motor skills.

Sewing on a straight and curved line was an activity that we also presented for eye-hand coordination.

We would be doing a fun science project next week in class, involving green gram.

Stayed tuned, we will be back with more - Infant Community Teachers

HINDI MILAP - 1 APRIL TO 5 APRIL2019

सामूहिक वार्तालाप (Group discussion)
पेड़ों का हमारे जीवन में महत्व l
पेड़ अपना भोजन कैसे और कब बनातें हैं, पेड़ो से मिलने वाली वस्तुएँ, पेड़ कैसे वातावरण को शुद्ध रखने में हमारी सहायता करते हैं l छात्रों ने अपनी पसंद के पेड़-पौधों के बारे में बताया l
कैक्टस/ नागफनी के पौधे के विषय में जानकारी दी गई l
बोल-चाल (conversation) ज्ञान के साथ-साथ हिंदी का अधिक से अधिक उपयोग छात्रों द्वारा बोलचाल की भाषा में करवाना l

पेड़ो के बारे में छात्रों से कुछ प्रश्न पूछे गए वे निम्नलिखित हैं l
- पेड़ों से हमें क्या मिलती है ?
पेड़ों से हमें ऑक्सीजन मिलती है l
- पेड़ हमें क्या – क्या देतें हैं ?
पेड़ हमें फल और फूल देतें हैं l
- कागज़ कहाँ से आतें हैं ?
कागज़ पेड़ों से बनाए जा सकते हैं l
- पेड़ किसे बहने नहीं देतें हैं ?
पेड़ मिट्टी को बहने नहीं देते हैं l
- पेड़ से क्या दूर होता है ?
पेड़ों से प्रदूषण दूर होता है l
- पेड़ों के अंगो के नाम बताओ ?
जड़, तना, टहनी, पत्तियाँ

बोल-चाल (conversation) : चित्रों के माध्यम से छात्र मौखिक बोलने का प्रयत्न करेंगे l जैसे मच्छर, मधुमक्खी और चींटी पर तीन-चार वाक्य मौखिक बुलवाया जाना l इस गतिविधि का उद्देश्य छात्रों को हिंदी का उपयोग अधिक से अधिक बोलचाल की भाषा में करवाना है।
मच्छर
- मच्छर गंदे पानी या साफ़ पानी में पैदा होते हैंl
- मच्छर खून चूस्तें हैं l
- मच्छर उड़ सकते हैं l
- मादा मच्छर काटती है ताकि वह अंडे दे सकेl
- मच्छर बीमारी फैलाते हैं l

मधुमक्खी
- मधुमक्खी छत्ते में रहती है l
- मधुमक्खी शहद बनाती हैं l
- मधुमक्खी उड़ सकती हैं l
- मधुमक्खी परिश्रमी होती हैं l

चींटी
- चींटी काली या लाल रंग की होती हैं l
- खतरा होने पर चींटी काटती है l
- चींटी सब जगह रहतीं हैं l
- चींटी झुण्ड में रहती हैं l
- चींटी बहुत मेहनती होती हैं l

भाषा ज्ञान (Acquisition on Language)
- वर्णमाला अभ्यास
- गिनती एक से पचास तक l


Story Time -
परोपकारी कछुआ -
गुच्छा, दिखावा, गुस्सा, तंग, तत्काल, भलमनसाहत, आसमान सिर पर उठा लेना, धन्यवाद

कविता –
पेड़ लगाओ, पेड़ लगाओ,
हरा भरा जीवन बनाओ।
छाया ये हमको देते हैं,
फल ये हमको देते हैं।
बाढ़ से हमको बचाते हैं,
प्रदूषण दूर हटाते हैं।
हम भी पेड़ लगायेंगे,
संसार को हरा-भरा बनाएँगे।

Song –
किसी की मुस्कुराहटों पे हो निसार,
किसीका दर्द मिल सके तो ले उधार,
किसीके वास्ते हो तेरे दिल में प्यार,
जीना इसी का नाम है।
किसी की ...
(माना अपनी जेब से फ़कीर हैं,
फिर भी यारों दिल के हम अमीर हैं।) - (२)
मिटे जो प्यार के लिये वो ज़िन्दगी,
जले बहार के लिये वो ज़िन्दगी,
किसी को हो न हो हमें तो ऐतबार,
जीना इसी का नाम है।
(रिश्ता दिल से दिल के ऐतबार का,
ज़िन्दा है हमीं से नाम प्यार का।) - (२)
के मर के भी किसी को याद आयेंगे,
किसी के आँसुओं में मुस्कुरायेंगे,
कहेगा फूल हर कली से बार बार,
जीना इसी का नाम है।

सवेरा हो गया देखो
सवेरा हो गया देखो
अंधेरा खो गया देखो
सुनहरी धुप आई है
नई हर बात लायी है
सवेरा हो गया देखो
ए पंछी चह-चहाते हैं
जो आलस था भरा तन में
कहीं जा सो गया देखो
सवेरा हो गया देखो

होली का त्यौहार
आयी होली रे होली रे होली रे होली
रंगो से हम खेले आयी होली रे होली

आयी होली रे होली रे होली रे होली
रंग गुलाल उड़ाए आयी होली रे होली

आयी होली रे होली रे होली रे होली
पिचकारी भर लेंगे, आयी होली रे होली

आयी होली रे होली रे होली रे होली
मस्ती में जमेंजे खेले होली रे होली

आयी होली रे होली रे होली रे होली

अरे जा रे हट नटखटना
अरे जा रे हट नटखटना छू रे मेरा घूँघट
पलट के दूँगी आज तुझे गाली रे
मुझे समझो न तुम भोली भाली रे

आया होली का त्योहारउड़े रंग की बौछार
तू है नार नखरेदार मतवाली रे
आज मीठी लगे है तेरी गाली रे

तक तक ना मार पिचकारी की धार
कोमल बदन सह सके ना ये मार
तू है अनाड़ी, बड़ा ही गँवार
कजरे में तूने अबीर दिया डार

तेरी झकझोरी से, बाज़ आयी होरी से
चोर तेरी चोरी निराली रे
मुझे समझो ना तुम भोली भाली रे
अरे जा रे हट नटखट...

धरती है लाल आज, अम्बर है लाल
उड़ने दे गोरी गालों का गुलाल
मत लाज का आज घूँघट निकाल
दे दिल की धड़कन पे, धिनक धिनक ताल
झाँझ बजे शँख बजे, संग में मृदंग बजे

अंग में उमंग खुशियाली रे
आज मीठी लगे है तेरी गाली रे
अरे जा रे हट नटखट...

Facebook Twitter Youtube Pinterest Google Tumblr Instagram

Montessori For Children (Broadrick Road)

Email: broadrick@montessori.edu.sg

Tel: +65 63450087

www.montessori.edu.sg